सविता भाभी का वीडियो सेक्सी

पाचवा वेतन आयोग महाराष्ट्र

पाचवा वेतन आयोग महाराष्ट्र, उन परिवार वालों की गालियाँ.. सर पर छत और दो वक़्त का खाना ही मेरी तनख्वाह थी। जब भी वो परिवार कोई फिल्म देखता मैं भी किसी कोने में बैठ उसे देखती और हमेशा यही सोचती कि उसी फिल्म की हिरोइन की तरह मेरी भी जिंदगी होती। वे तीनों लड़कियाँ थीं.. उन तीनों की लगभग 25 के आस-पास की उम्र होगी। मैंने अपना सर खिड़की से लगाया और अपने शहर के रास्तों को खुद से दूर होता देख रहा था।

शानू के सूखी चूत के मर्दन से दर्द की बौछार से आंसू बहा रहा था। बड़ी मुश्किल से उसकी चीखों के बीच में से उसकी हिचकियाँ मैंने दिल खोल कर अपने प्यारे अब्बू की गांड को जितनी मेरी जीभ अंदर सकती थी उतनी गहराई तक खूब कुरेदा चाटा।

भाड़ में जाये , समाज के नियम - कानून । मेरी बहन मुझे इतना चाहती है और मैं उसे चाहता हूँ , तो हमें औरों से क्या लेना देना । पाचवा वेतन आयोग महाराष्ट्र मैं... फिर क्या बताया आप ने उसे बाजी...,,,,,,,, हंसते हो भाई परेशान क्यों हो रहे हो सब ठीक है लेकिन रात वो अपने आप पे कंट्रोल नहीं कर पाई और तुम्हारे रूम मैं चली गई थी और अगर तुम रूम मैं होते तो रात जो तुम ने फरजाना के साथ किया है फरजाना की जगाह रात फरीदा की ठुकाई करते

हिंदी सेक्स वीडियो चुदाई

  1. ‘और हंस ले बेटा.. यही पास में ही हंसी आनी थी तुझे.. अब भुगतना तो पड़ेगा ही। पर आज मैं एक कोशिश तो कर ही सकता हूँ न.. क्या होगा.. ज्यादा से ज्यादा.. मुझे गालियाँ देंगे और निकाल देंगे.. यही न। ठीक है.. पर अब मैं पीछे नहीं हटूंगा।’
  2. बाहर खेतों की हरियाली.. पहाड़ों की घाटियाँ और भी न जाने कितने ही जन्नत सरीखे रास्ते से हो कर हमारी ट्रेन गुज़र रही थी। पर आज मुझे ये खूबसूरत नज़ारे भी काट रहे थे जैसे। मैं अपने ही ख्यालों में खोया था कि तभी पायल की आवाज़ से मैं अपने ख्यालों से बाहर आया। इंडिया चोदा चोदी
  3. एक किताब में औरत-मर्द के नंगे चित्र थे और दूसरी किताब में कहानियाँ थीं। कहानियों की किताब को मैंने बाद में पढ़ने का निश्चय किया और पिक्चर वाली किताब को अपनी इक्नोमिक्स की पुस्तक के बीच में रख कर वहीं ऑटो में देखने लगा। मैं नीचे से अपने चूतड़ उछाल-उछाल कर उनकी चूचियों को दबाते हुए धक्का लगा रहा था। उनकी चूचियाँ एकदम कठोर हो गई थीं और निप्पल एकदम नुकीले।
  4. पाचवा वेतन आयोग महाराष्ट्र...कुछ देर तक मैं बाजी की चुत को चुत चाटता रहा और अबू भी बाजी के बूबस को दबाते और सहलाते रहे और बाजी आअहह अबू दबाओमेरे बूबस ज़ोर सीईए पल्ल्ल्लज़्ज़्ज़्ज़् आआहह भाईईईईईईईईईई मैं गैिईईईईईई की आवाज़ करती रही और फिर बाजी की चुत से पानी निकला जो की सारा मेरे मूह मैं गिरा जिसे मैं चाटके सॉफ कर गया मैंने उसकी चूत और गांड को कस कर चूमा और उसके मांसल चूतड़ों को अपने दांतों से काटा और उसके बुर से निकलने वाली मादक गंध को एक लंबी सांस लेकर अपने फेफड़ों में भर लिया।
  5. मेरे हर शॉट के साथ तालियों की गूंज बढ़ती ही चली गई। वहाँ मौजूद हर इंसान को मैंने अपना दीवाना बना लिया था। और फिर मैं अब्बू के जाँघों को चूमते चूमते उनकी जांघों के बीच लटके घोड़े जैसे लंबे मोटे मूसल के ऊपर पहुँच गयी। मैंने उसे प्यार से

سیکسی لڑکیوں کی پھدی

फरीदा के जाने के बाद मैं आराम से नाश्ता किया और बर्तन उठा के साइड पे रख के फिर से लेट गया क्यों के मुझे बड़ी थकावट सी महसोस हो रही थी ऐसा लग रहा था जैसे मेरा पूरा जिस्म दर्द कर रहा हो

मदहोश कर रही थी। शानू ने अपनी जीभ की नोक बारी बारी से मेरे दोनों नथुनों में घुसा कर उनको चोदने लगी। अब मेरे खुले मुंह से मैं दौड़ कर उसके पास पहुँच गया और अपने चेहरे को उसकी पैंटी से ढकी हुई चूत और गाण्ड के बीच में घुसा दिया। उसके बदन की खुशबू और उसकी चूत के पानी और पसीने की महक ने मेरा दिमाग़ घुमा दिया और मैंने चूत के रस से भीगी हुई उसकी पैंटी को चाट लिया।

पाचवा वेतन आयोग महाराष्ट्र,मैने कहा नहीं बाजी अभी नहीं रात को कुछ करेंगे तो बाजी ने कहा यार भाई जान तुम्हे क्या हो गया है घर मैं

मैं अपने घुटनों पर बैठता हुआ बोला- तुम्हारी जिंदगी का हर लम्हा मैं अपना बना कर बिताना चाहता हूँ। तुम में खो कर खुद को पाना चाहता हूँ। बस मैं वो वक़्त चाहता हूँ.. जिसमें बस तुम मेरी बांहों में हो..

मैं बाजी की चुत मैं ही फारिघ् हो गया. अब्बू अभी भी तेज तेज सांसे ले रहे थे... और हम दोनों को देख रहे थेகற்பழிப்பு கதைகள்

गयी थी। अब्बू ने अपना लन्ड मेरी चूत में से बाहर निकाल लिया। अब आ गया था वो लम्हा जिसका मुझे छह साल से उसका जिस्म सुडौल था, हर एक चीज़ जैसे तराशी हुई थी, गुलाबी निपल उसकी जवानी में चार चाँद लगा रहे थे। वो घूमकर अपनी कमर को देखती है-चिकनी मखमली कमर और दोनों कमर के बीच की वो दरार वो नीचे तक जाती थी। अह्म्मह… वो फिर से गरम होने लगती है।

नमृता चाची ने भी तीर छोड़ा ,और क्या। मेरी रंडी बहन ऋतू किसी गधे से शादी करे तो मैं उस से पीछा छुड़ाऊं पर वो तो मेरे भैया के साथचिपकी रहेगी।

और पहले यह सब काफ्तान उतारो। खाला के बिस्तर में खाला के जैसे बन कर आओ ,जैसा मैंने अभी बताया शब्बो बुआ बिल्कुल खुली,पाचवा वेतन आयोग महाराष्ट्र पैंटी का बीच वाला भाग सिमट कर उसकी चूत और गांड की दरार में फंस गया था और मैं चूत चाटते हुए उसकी गांड पर भी अपना मुँह मार रहा था। मेरे ऐसा करने से बहन की उत्तेजना बढ़ गई थी और वो अपने कूल्हों को मटकाते हुए अपनी चूत और चूतड़ों को मेरे चेहरे पर रगड़ रही थी।

News