सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी में दिखाएं

नागपूर मुंबई बुलेट ट्रेन

नागपूर मुंबई बुलेट ट्रेन, चलो बेटा..अरुण-अरमान ,दोनो बाहर जाओ...ये हमारा मॅटर है...हॉस्टिल के दूसरे सीनियर्स जो वहाँ नौशाद के साथ आए थे,उन्होने हमे जबर्जस्ति पकड़ कर कॅंटीन से बाहर कर दिया... मैने सुना नही ठीक से..आपने क्या बोला..विभा को आँखो से ब्लॅकमेल करते हुए मैं मुस्कुराया जिसके बाद विभा हड़बड़ा गयी और पनिशमेंट के तौर पर एक-एक असाइनमेंट का हथौड़ा हमारे सर पर दे मारा.....

सब टीचर्स मीटिंग के लिए न्यू बिल्डिंग मे गये है सिवाय दो तीन को छोड़कर...और यदि इस बीच कोई आ गया तो नुकसान तुम्हारा होगा...उसने अपना पर्स खोला और लिपस्टिक निकलते हुए बोलीमैं सबको यही बोलूँगी कि ,तुम जबर्जस्ति यहाँ घुस आए थे... वो प्यारी सी बच्ची! कैसे उसने उसके ही सुहाग की रक्षा करी थी! और एक वह है कि उसको ही अभियुक्त बना कर अपने कुंठित न्यायलय के कठघरे में खड़ा करने चली थी! छि:! कितना ओछापन!

देख अरमान,...अरुण वही रास्ते मे खड़ा हो गया , और बोलादुनिया मे लाखों लड़कियो का प्यार सिर्फ़ चूत-लंड का होता है, उन लाखों लड़कियो मे से कुछ ही लड़किया ऐसी होती है ,जिनका लव लेफ्ट साइड वाला होता है और एश-गौतम का लव लेफ्ट साइड वाला है... नागपूर मुंबई बुलेट ट्रेन माँ कसम सुन कर दुख हुआ....हर रोज़ की तरह वरुण आज भी मुझसे पहले उठा और चाय बनाने के लिए गॅस ऑन करते हुए बोला....ला दूध की बोतल पकड़ा....

గుడ్ నైట్ వీడియోస్

  1. रात में होटल वाले ने जबरदस्ती एक रोटी मुझे खिला दी। दिन भर आपदा कार्यालय के चक्कर लगाता, फ़ोन की घंटी बजने का इत्नाजार करता, और समाचार में मृतकों की बढ़ती हुई संख्या देख कर मन ही मन मनाता की मेरा कोई अपना न हो! इतनी बेबसी मैंने अपने जीवन में पहले कभी नहीं महसूस करी। इतनी बेबसी, और इतनी खुदगर्जी!
  2. तूने कहा कि तू उन दोनो लड़को को ठोकने वाला है...अबकी बार सौरभ ने मुझे घूरा और आख़िर मे मेरे आख़िरी दोस्त,सुलभ ने भी मुझे गुस्से से घूरा.... मां की चूत दिखाओ
  3. वो मंगल ग्रह ही है,चाहे किसी से भी पुच्छ लो तुम बिलाव, क्यूंकी आसमान मे लाल तारा दिखा मतलब वो मंगल ग्रह है... इन तीनो का नाम, पर्मनेंट अड्रेस,मोबाइल नंबर लेकर इन्हे जाने दो और कोई केस फाइल मत करना....अपनी जगह पर खड़े होते हुए उन्होने कहाऔर हां, इनकी बाइक भी छोड़ देना, स्टूडेंट है...ज़ुर्माना शायद ना भर पाए...
  4. नागपूर मुंबई बुलेट ट्रेन...अब तो साला हमारे साथ जंगल का राजा भू भी नही है,जो लॅब के खाली टाइम मे पूरे कॉलेज की न्यूज़ सुनाए...मॅम ने जब एक और जादू किया तो उसे देखते हुए मैं खिसिया गया और भू को याद करने लगा... अच्छा हुआ , जो सही-सलामत हूँ...वरना आंकरिंग नही कर पाता,जो कि एक हफ्ते के बाद ही है...बिके की तरफ बढ़ते हुए मैं बड़बड़ाया और नीचे अपने जॅकेट की तरफ पहली बार निगाह डाली....
  5. मेरे कंधे पर थ्री स्टार यूँ ही नही लगी है मिसटर....मुझे हक़ीक़त की खाँसी और दिखावे मे फरक करना बहुत अच्छी तरह आता है,तूने क्या मुझे अपने कॉलेज का टीचर समझ रखा है जिसे तू जब चाहे तब बेवकूफ़ बना दे...हुह्म डूब मर फिर मायूस होते हुए मैने कहा , कि तभी मुझे अवधेश गिलहारे कॅंटीन की तरफ जाता हुआ दिखाई दिया, जिसे मैने एश और दिव्या के उपर निगरानी रखने के लिए कहा था....

महाराष्ट्र माहिती मराठी

अरुण चाहे गे हो या लेज़्बीयन, पहले तू ये बता कि तुझे एश ज़्यादा प्यारी है या हम लोग...अबकी बार सौरभ के पिछवाड़े मे इल्ली हुई और वो भी उठकर बैठ गया....

अब मैं क्या बताऊ, मेरी आदत नही है कि एग्ज़ॅम के बाद मैं उस सब्जेक्ट के बारे मे सोचु...आप ही बता दो... क्या जब प्रिन्सिपल ने ये कहा तो मेरी फॅट के हाथ मे आ गयी ,मैने तो ऐसा सोचा तक नही था कि वो भू के बाप को कॉलेज मे बुला भी सकता है....

नागपूर मुंबई बुलेट ट्रेन,मैं कोफ्ता और भिंडी लेकर अभी आया....बोलकर सौरभ वहाँ से आगे बढ़ गया और नवीन,सुलभ पहले ही साथ छोड़ चुके थे...

ज़रा और फैलाओ जानेमन.. अपनी मालपुए जैस चूत थोड़ा ढंग से दिखाओ मुझे! मैंने उसकी योनि पर अपनी निगाहें जमाये हुये कहा।

वो बोर्ड पढ़ते ही मेरा गला ऐसे सूखा, जैसे मुझे किसी ने हफ़्तो पहले बिना पानी के रेगिस्तान मे भेजा हूँ...मेरी चारो तरफ से फटने लगी और मैं खड़ा ना होने की हालत मे ना होने के बावज़ूद ,अपना पूरा दम लगाया और जैसे-तैसे खड़ा हुआ....न्यू विकास बँकेचे अध्यक्ष आहेत

और लवडे क्या हाल है.... कहते हुए मैं वहाँ से आगे बढ़ा,लेकिन मेरे कदम जैसे जम गये थे...मेरा सर बहुत ज़ोर से दर्द किया और मैं वही अपने दोस्त के बगल मे सर पकड़ कर बैठ गया.... ऑटोग्राफ तो अब मैं तुझे दूँगा ,वो भी ज़िंदगी भर के लिए....क्यूंकी तेरे उपर अब हाफ-मर्डर का नही बल्कि मर्डर का केस चलेगा....

उन दोनो की बातें सुनकर मुझे ऐसा अंदाज़ा हो रहा था कि अब ये दोनो मुझसे पुछेन्गे कि सच क्या है और इसीलिए वो दोनो मेरी तरफ देखते उसके पहले ही मैने अपनी आँखे बंद कर ली...ताकि उनको लगे कि मैं सो गया हूँ...

देख अरमान ,अभी ज़्यादा डाइलॉग बाज़ी मत छोड़...वरना दो को तो पेल के आया ही हूँ,तीसरा नंबर तेरा लगा दूँगा...इसलिए शॉर्ट मे बता लेकिन अच्छे से बता...,नागपूर मुंबई बुलेट ट्रेन गेम अब पलट रहा था ,इस बीच गौतम की टीम ने भी बास्केट किया और वो वक़्त आया जब डीडीजी रूल मुझे लगाना ही पड़ा, रेफरी ने इशारे से बताया कि अब सिर्फ़ 5 मिनिट्स ही बचे है और स्कोर उस समय 40-52 था....

News