வித்தவுட் செக்ஸ்படம்

सेक्सी नंगी नंगा

सेक्सी नंगी नंगा, रूपाली पायल के पास आई और उसके दोनो हाथ पकड़कर सीधे किया. फिर उसने खींचकर चोली को उतार दिया. पायल ने रोकने की कोशिश की तो रूपाली ने घूरकर उसकी तरफ देखा और चोली को जिस्म से अलग करके बिस्तर पे फेंक दिया चाची बोली, लल्ला......कांच तो अब नहीं है.....मगर ये मरी मोमबत्ती में कुछ दिख नहीं रहा......तू बिस्तर पर लेट जा........एक बार ढंग से देख लूँ....हें......?

‘अच्छा शालिनी, एक बात बता, जब हमने पहली बार चुदाई की थी उसके बाद तुम्हें कैसा लगा था, मतलब चलने फिरने में या उठने बैठने में कोई तकलीफ हुई थी?’ सन सनन साय साय फिर से होने लगी. मेरी नज़र उनके बदन को सहलाने लगी. तभी मेरी गांड में शीशे का टुकड़ा चुभ गया और मेरे मुंह से फिर से आह निकल गयी.

मैं जब कोमल भाभी के घर से बाहर निकल कर आया और उनका गेट बंद करने लगा तब तक वो भी नीचे आ गयी थी, मेरी उनकी नज़र मिली और वो फिर से शरमाते हुए मुस्कुराने लगी. मैंने वहीँ रुक कर उनके इस लाजवंती ड्रामे को देखने लगा. तभी किसी ने मेरे कंधे पर हाथ मारा. सेक्सी नंगी नंगा देख तो मीठी हो गयी……..3 चम्मच चीनी डाली है…..राम राम….ये भंगेड़ियों का तो बस…..हरिया की कल खबर लेती हूँ….तू छोरे तुझे समझ नही आया क्या…..जो गटका गया….

सेक्सी पिक्चर जानवर की

  1. देखा….? अरे तेरे काका ने कमरे से निकालने दिया हो तब ना…..अरे राम….होटेल का पलंग ही तोड़ डाला था…. और खि खि कर हँसने लगी.
  2. मै समझ सकता हूँ जो तुम कहना चाहती हो। मेरी पत्नी भी सैक्स के प्रति बहुत सीधी है। तुम्हें विश्वास नहीं होगा मैने आज तक उसके मुँह में अपना लण्ड नहीं डाला है… लोमड़ी और अंगूर की कहानी in english
  3. यहाँ एक अच्छी पिक्चर चल रही है, उसे देखकर किसी बढ़िया से रेस्त्रां में खाना खाएंगें और फ़िर होटल चलेंगे। क्या तुमने अपने तैरने के वस्त्र साथ लिये हैं… सागर, तुम कित'नी प्यारी प्यारी बातें कर'ते हो. तुम्हारी ऐसी बातें सुनके में तुम्हें किसी बात के लिए ना नही कह'ती.
  4. सेक्सी नंगी नंगा...‘आय हाय ये तो देखो… चुदाई का रस भाभी की जाँघों पर से बह रहा है. अब पौंछ भी लो भाभी अपनी चूत और टाँगें! तुम्हारी सासू माँ आती ही होंगी अब!’ शालिनी बोली. तेरे पास कामिनी के कमरे की चाभी कहाँ से आई? रूपाली को अचानक याद आया के इंदर बड़ी आसानी से कमरा खोलकर अंदर चला गया था
  5. जब दोनों शांत हुए तो कोमल उसे चूमते हुए बोली- मेरे शानदार चुदक्कड़ बेटे, काश हम लोग भाग सकते होते तो हम कहीं ऐसी जगह चले जाते जहाँ हम जितनी चाहते, चुदाई कर सकते… कुछ नहीं रे बेटा बन्दर है यहां बड़ी तकलीफ है बेटा....... घर का सामान उठाकर ले जाते हैं....कपड़े भी खींच ले जाते हैं इसीलिए कपड़े खुले में नहीं सुखाती.....हरे राम.... देखना मेरी साड़ी.....सब कपडे.... ऊपर ही सूखा आयी थी आज....

कल्याण सट्टा मटका चार्ट रिजल्ट

कुच्छ पल सिर्फ़ होठों से होठों को चूम'ने के बाद मेने धीरे से मेरे होंठ अलग किए और उसके होठों को मेरी जीभ लगा दी.

उसके गालों पर मेरे गाल घिस लिए फिर में उसके होठों पर आया. थोड़ी देर उसके होठों को उप्पर ही उप्पर चूम'ने के बाद में उस'पर मेरी जीभ घुमाने लगा. फिर मेने जीभ उसके होठों के बीच डाल दी और उसके दाँत चाट'ने लगा. अप'ने आप उस'ने अपना मूँ'ह खोल दिया और उस'ने मेरी जीभ को अप'नी जीभ लगा दी. जवाब : तो क्या हुआ. जब उसका भाई घर की नौकरानी को चोद सकता है तो वो क्यूँ नही. और आज से पहले कौन सा उसने इस बारे में सोचा था.

सेक्सी नंगी नंगा,पायल ने एक सफेद रंग की कमीज़ पहेन रखी थी. बहुत ज़्यादा गर्मी होने की वजह से वो दोनो ही पसीने से बुरी तरह भीग गयी थी. पायल की कमीज़ पसीने से भीग जाने के कारण उसके शरीर से चिपक गयी थी और उसके काले रंग के निपल्स कमीज़ के उपेर से नज़र आ रहे थे.

मेरी उंगलिया उनकी गरमा गरम चूत तक पहुँचने ही वाली थी........मैंने अपनी उंगलियों को और नीचे किया और उनको जन्नत मिल गयी.

दूसरी बात कर्नल यह है कि मेरे ख्याल से सिर्फ सजल ही आपके यहाँ आने का कारण नहीं है। मुझे पता है कि आप मुझे किस तरह से देखते हैं और यह भी पता है कि आपकी इस बाहरी औपचारिकता के पीछे वो आदमी छुपा है जो औरों की तरह ही मेरे लिए बेकरार है…रवीना टंडन का पति कौन है

आगे की पढ़ाई के लिए उसके घर वालों ने उसे पास के शहर भोपाल भेज दिया क्योंकि यहाँ पालम पुर में उसकी पसन्द का कोई भी कॉलेज नहीं था. पायल ने एक सफेद रंग की कमीज़ पहेन रखी थी. बहुत ज़्यादा गर्मी होने की वजह से वो दोनो ही पसीने से बुरी तरह भीग गयी थी. पायल की कमीज़ पसीने से भीग जाने के कारण उसके शरीर से चिपक गयी थी और उसके काले रंग के निपल्स कमीज़ के उपेर से नज़र आ रहे थे.

जैसा कि शालिनी ने उसके हुस्न के बारे में बताया था वो उससे बढ़ कर निकली. कोई साढ़े पांच फुट कद, गोरी गुलाबी रंगत, चित्ताकर्षक नयन नख्श, चेहरे पर सौम्य मुस्कान और हंसती हुई आँखें… भरा भरा निचला होंठ जिससे रस जैसे टपकने को ही था, उमर कोई ख़ास नहीं, तेईस चौबीस साल की ही लगी मुझे वो…

पर कोई हवेली में कैसे आ सकता था? बाहर दरवाज़े पे उन दीनो 3 गार्ड्स होते थे, घर के कुत्ते खुले होते थे और हवेली के चारो तरफ ऊँची दीवार है जिसे चढ़ा नही जा सकता रूपाली एक साँस में बोल गयी,सेक्सी नंगी नंगा चाची ने मुझे टेडी नज़र से देखा और बोली, नाराज़ होने की बात हुयी तो हो भी सकती हूँ.......बोल क्या बात है ?

News